कोविड 19: डब्ल्यूएचओ ने चेताया, हो सकता है कभी न मिले कोरोना का निदान

04 August 2020 10:55 AM
Hindi
  • कोविड 19: डब्ल्यूएचओ ने चेताया, हो सकता है कभी न मिले कोरोना का निदान

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में ले रखा है। पूरा विश्व इस मर्ज की दवा ईजाद करने में पूरी ताकत से जुटा है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक डरावनी चेतावनी जारी की है।

स्वास्थ्य संबंधी दुनिया के सबसे बड़े संगठन का कहना है कि वैक्सीन बनने के दृढ़ विश्वास के बीच संभव है कि कोरोना महामारी का प्रभावी समाधान कभी न निकले। साथ ही कहा, हो सकता है कि सामान्य स्थिति बहाल होने में लंबा वक्त लगे।

दुनिया भर में 1.81 करोड़ से ज्यादा लोग इस महामारी से प्रभावित हैं और करीब 6.88 लाख से ज्यादा लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रॉस एधनोम घेब्रेयसस और संगठन के आपातकालीन प्रमुख माइक रयान ने सभी देशों से स्वास्थ्य उपायों को सख्ती से लागू करने का आह्वान किया है। जिसमें मास्क पहनना, सामाजिक दूरी, हाथों की सफाई और जांच शामिल हैं।

टेड्रॉस ने जेनेवा स्थित मुख्यालय में वर्चुअल प्रेसवार्ता में कहा कि सभी लोगों और सरकारों को संदेश बिलकुल स्पष्ट है कि उक्त सभी उपायों को अपनाएं। उन्होंने कहा कि फेस मास्क को दुनिया भर में एकजुटता का प्रतीक बनना चाहिए।

अभी इससे बचने का कोई उपाय नहीं
रयान ने कहा कि कई वैक्सीन तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल में हैं। हम सब उम्मीद लगाए बैठे हैं कि कई वैक्सीन लोगों को संक्रमित होने से बचा लेंगे। हालांकि इस वक्त इससे बचने का कोई उपाय नहीं है और हो सकता है कि कभी न मिले।

रयान ने कोरोना के सबसे ज्यादा प्रसार वाले ब्राजील, भारत सहित तमाम देशों से कहा है कि इसके सामान्य होने में लंबा वक्त और निरंतर प्रतिबद्धता की जरूरत है। उन्होंने कहा कि चीन गई एक जांच टीम अब तक नहीं लौटी है, जिसे कोराना वायरस का उद्गम स्थान बताया जा रहा है।

बच्चों को स्तनपान कराते रहने पर जोर
टेड्रॉस ने सभी माताओं से अपील की है कि वे अपने बच्चों को स्तनपान कराती रहें, बेशक वो कोरोना संक्रमित ही क्यों न हों। स्तनपान का लाभ यह है कि यह संक्रमण के खतरे को काफी हद तक कम कर देता है।



Related News

Loading...
Advertisement