सोनभद्र के उम्भा गांव के लिए रवाना हुईं प्रियंका गांधी, भूमि विवाद में मारे गए लोगों के परिवारों से मिलेंगी

13 August 2019 12:20 PM
Hindi
  • सोनभद्र के उम्भा गांव के लिए रवाना हुईं प्रियंका गांधी, भूमि विवाद में मारे गए लोगों के परिवारों से मिलेंगी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मृतकों के परिजनों से मिलने के अलावा घायलों से भी मुलाक़ात करेंगी. बताया जा रहा है कि पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता भी प्रियंका गांधी के साथ होंगे.

नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मंगलवार सुबह करीब 10 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचीं. वे यहां से सोनभद्र के उम्भा गांव जाएंगी और भूमि विवाद में मारे गए लोगों के परिवारों से मुलाकात करेंगी. 17 जुलाई को यहां हुई हिंसा में 10 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था.


दोपहर में करीब एक बजे प्रियंका उम्भा गांव पहुंचेंगी और पीड़ित परिवारों से मुलाकात करेंगी. वे गांव में करीब एक घंटे तक रुकेंगी और फिर करीब 2.30 बजे वाराणसी एयरपोर्ट के लिए निकलेंगी. यहां से वे करीब 6.30 बजे दिल्ली के लिए उड़ान भरेंगी और करीब 8 बजे तक दिल्ली पहुंच जाएंगी.


कांग्रेस महासचिव मृतकों के परिजनों से मिलने के अलावा घायलों से भी मुलाक़ात करेंगी. बताया जा रहा है कि प्रियंका के साथ इस दौरान पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता भी उम्भा पहुचेंगे.

सोनभद्र के उम्भा गांव में ज़मीनी विवाद में हुई गोलीबारी की घटना के बाद 19 जुलाई को प्रियंका गांधी अचानक वाराणसी पहुंचीं थीं और वहां सबसे पहले बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में घायलों से मिलने गईं. इसके बाद वो उम्भा गांव जाने के लिए निकलीं लेकिन उनके दौरे से पहले प्रशासन ने ज़िले में निषेधाज्ञा यानी धारा 144 लगा दी.


प्रियंका सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रहीं थी, लेकिन तभी प्रशासन ने उन्हें वाराणसी-सोनभद्र के बीच स्थिति नारायणपुर पुलिस चौकी के पास रोक दिया. कांग्रेस को इसी से सोनभद्र की घटना को मुद्दा बनाने का मौका मिला और प्रियंका प्रशासन के खिलाफ़ विरोध में धरने पर बैठ गईं.


क़रीब 24 घंटे तक धरना चलने के बाद प्रशासन ने पीड़ित परिवारों के कई सदस्यों ने चुनार गेस्ट हाउस भेजकर प्रियंका गांधी से उनकी मुलाक़ात कराई और तब जाकर धरना ख़त्म हुआ. प्रियंका गांधी ने अपना धरना ख़त्म करने के साथ घोषणा की कि पार्टी की तरफ से नरसंहार के पीड़ित परिवारों की आर्थिक सहायता दी जाएगी.


प्रियंका की घोषणा के मुताबिक़ नरसंहार में मारे गए लोगों को कांग्रेस पार्टी की ओर से 10-10 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी गई. इसके बाद कांग्रेस के नेताओं ने सोनभद्र जाकर पीड़ित परिवारों के लोगों को आर्थिक मदद के तौर पर चेक दिए थे.


Loading...
Advertisement